वसीम अकरम

My blogs

Blogs I follow

About me

Gender MALE
Industry Communications or Media
Occupation journalism
Location delhi, up, India
Introduction दादा ने मुझे ‘बिंडिया‘ कहा/ अब्बू ने नाम लेके बूलाया/ और माँ ने ‘बाबू‘ कहके प्यार किया/ कुछ एक चाचाओं ने/ कभी ‘टपोरी‘ कभी ‘सनकी‘/ तो कभी कुछ और ही नाम से पुकारा/ दोस्तों ने मुझे/ वक्त के ऐतबार से/ जिस नाम से चाहा, बुला लिया/ अदब की महफ़िलों में/ बुजुर्ग शायरों ने/ ‘नन्हा शायर‘ के लक़ब से नवाज़ा/ एक मासूम सी दोस्त/ सलाहियतमंद लड़की ने/ प्यार से, ‘पागल कहीं का‘ कहा/ और ‘सपना‘ तो आज भी/ ‘अबे ओये‘ कहकर/ ‘हम मार देंगे‘ कहती है/ आपके ज़ेहनो-दिल के गोशे मे भी/ अगर कोई अदना सा नाम हो/ तो मैं हाज़िर हूँ...............