Anita Maurya

My blogs

About me

Gender FEMALE
Industry Business Services
Location kanpur, U.P., India
Introduction "मैं" इक भावुक, बहुत ही भावुक लड़की किसी ने कहा भावुकता निश्छलता का प्रतीक है तो किसी ने कहा पवित्रता का .. 'ना' भावुकता न तो निश्छलता का प्रतीक है और न ही पवित्रता का .. ये तो प्रतीक है हर पल छले जाने की तत्परता का .. 'हाँ' छली जाती हूँ मैं , हर दम, हर कदम कभी अपनों के हाथों, तो कभी गैरों के कभी साहिलों से, तो कभी लहरों से, कई बार चाहा , हो जाऊं 'धरा' रहूँ 'अचल' बन जाऊं 'दरिया' बहूँ 'अविरल' पर नहीं बन सकी मैं 'धरा' और ना ही 'दरिया' क्यूंकि 'मैं ' हूँ इक भावुक, बहुत ही भावुक लड़की