राजू मिश्र

My blogs

About me

Gender MALE
Location लखनऊ, उत्तर प्रदेश, India
Introduction जब से होश संभाला, खुद को अक्षरों से खेलते पाया। गिल्‍ली-डंडा, ताश-पतंग और कंचे का खेल कभी नहीं सुहाया। तब सोचा न था कि अक्षरों का यह खेल आज इस मुकाम तक पहुंचा देगा। ऊपर वाले की दया-दुआ तो है ही इसके पीछे। सौभाग्‍य था जो सान्निध्‍य मिला श्री विनोद जी शुक्‍ल सरीखे हिंदी पत्रकारिता के शलाका पुरुष का। यह सान्निध्‍य उनके जीवन के अंतिम क्षणों तक रहा। वह होते तो 'चौमासा' देख बहुत खुश होते, नित्‍य नूतन सुझाव देते और अमल में लाने के लिए खुद ही जुट जाते। rajumishra63@gmail.com
Favorite Movies हमारे गम से मत खेलो, रंग दे बसन्‍ती
Favorite Books श्री राम चरित मानस