प्रतिभा कुशवाहा

My blogs

About me

Occupation पूरी तरह से पत्रकार नहीं कह सकती
Location फिलहाल अपने देश के दिल में अपना वास है , सबके दिल लो लुभाने वाली दिल्ली
Introduction मैं क्या हूं!!! पता नहीं इसलिए जो नहीं हूं, वह बता देती हूं। शायद आप समझ पाए मेरी बात.... न ‘मैं नीर भरी दुख की बदली’ न ‘मर्दानी’ झांसीवाली रानी। इन दोनों के बीच संघर्ष करती केवल ‘प्रतिभा’ हूं मैं। फिलहाल अपने अस्तित्व को बनाए रखने की कवायद में दिन- रात जुटी हूं....।