saroj mishra

My blogs

Blogs I follow

About me

Gender MALE
Occupation प्रोफेसर
Location bilaspur, chhattisgarh, India
Introduction ६३ साल बीत जाने के बाद भी नहीं समझ पाया की अपने समय में जिन्दगी जी कैसे जाती है ..बस इतना ही समझ पाया की कैसे जुटाया जाता है छत छप्पर और जीने का सामान .नहीं समझ पाया की इस जमाने में अपने ही आप को लकड़ी करते हैं क्यों की औरों को आप की जिंदगी में दखल देने की फुर्सत ही कहाँ है .
Interests writing
Favorite Movies bhootnath
Favorite Music rabishankar
Favorite Books sanskriti ke char addhyay